गाने और संगीत के बारे में

आम तौर पर यह माना जाता है कि ललित कलाओं (fine arts) को लेकर इस्लाम का रवैया बहुत उत्साहजनक या बहुत अच्छा नहीं है। इस्लाम इंसान की फितरत में मौजूद सौन्दर्य-बोध (जमालियात और खूबसूरती के एहसास) को ना ही ज़्यादा महत्व (अहमियत) देता है और ना उसे विकसित होने का मौका देता है, उदाहरण के तौर…