इस्लाम और राष्ट्रीयता (क़ौमियत)

जावेद अहमद ग़ामिदी, मकामात अनुवाद: जुनैद मंसूरी रंग, नस्ल, भाषा, सांस्कृतिक परम्पराओं और क्षेत्र के आधार पर एक राष्ट्र (क़ौम) होने की भावना इन्सान के स्वभाव में पायी जाती है। सारे इन्सान एक ही मनुष्य की संतान हैं लेकिन अपने रिश्तेदारों से जो निकटता महसूस होती है वह दूसरे इंसानों से महसूस नहीं होती। यही मामला…